Vegetarian Food is Good For Health Essay

Vegetarian Food is Good For Health Essay | शाकाहारी भोजन स्वास्थ्य के लिए अच्छा है पर निबंध

Vegetarian Food is Good For Health Essay


    भोजन हमारे शरीर के लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है क्योंकि भोजन के बिना शरीर को संचालित करना संभव नहीं है। मानव और अन्य सभी प्राणियों को जिंदा रहने के लिए आहार की जरूरत होती है। भोजन हमारे शरीर को ऊर्जा देता है जिससे हमें प्रतिदिन के कार्य करने की शक्ति मिलती है। यह हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को भी बनाए रखता है। हम में से कई लोग शाकाहारी भोजन करना पसंद करते हैं तो कई लोगों को मांसाहारी भोजन पसंद होता है।

    ऐसे में सवाल उठता है कि स्वस्थ रहने के लिए आखिर शाकाहारी भोजन जरूरी है या मांसाहारी? जवाब है कि भोजन कैसा भी हो लेकिन वह संतुलित होना चाहिए जिसमें सभी तरह के पोषक तत्व संतुलित मात्रा में उपलब्ध हो। हमें जितने पोषक तत्व मांसाहारी भोजन से मिलते हैं उतने ही पोषक तत्व हमें शाकाहारी भोजन से भी मिलते हैं। हालांकि शाकाहारी भोजन पेड़-पौधों से प्राप्त होता है इसीलिए इसमें हानिकारक तत्व नहीं होते और यह स्वास्थ्य के लिए भी काफी अच्छा माना जाता है। आज के इस लेख में हम शाकाहारी भोजन पर निबंध पढ़ेंगे।

    भूमिका

    शाकाहारी भोजन स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा माना जाता है। मांसाहारी लोगों को जो तत्व मांस से मिलते हैं। वही तत्व शाकाहारी लोगों को कई तरह कि शाक-सब्जियों से मिलते हैं। उदाहरण के तौर पर मांसाहारी लोगों को मछली, मांस, अंडे से प्रोटीन प्राप्त होता है। वही शाकाहारी लोगों को यह प्रोटीन सोयाबीन और कई अन्य वनस्पतियों से हासिल होता है। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि ऐसा कोई भी पोषक तत्व नहीं है जिसे वनस्पतियों से हासिल न किया जा सकता हो। शाकाहारी भोजन में विस्तार से बात करने से पहले यह जान लेते हैं कि सही मायने में शाकाहारी भोजन किसे कहा जाता है।

    शाकाहारी भोजन क्या होता है?

    शाकाहारी भोजन से तात्पर्य उस भोजन से है जिन्हें वनस्पतियों द्वारा प्राप्त किया जाता है। शाकाहारी भोजन में पशुओं का मांस, मछली, केकड़ा व झींगा आदि सम्मिलित नहीं होता। इसमें दुग्ध उत्पाद, फल-सब्जियां, अनाज जैसे कई वनस्पति आधारित भोजन शामिल होते हैं। इस तरह हम कह सकते हैं कि शाकाहारी भोजन में वनस्पति आधारित पदार्थों को शामिल किया जाता है।

    शाकाहार के प्रकार

    शाकाहारी भोजन भी कई प्रकार के होते हैं। इनमें से कुछ शाकाहारी भोजन में प्राणी जनित उत्पाद जैसे के अंडे, दूध आदि का सेवन किया जाता है तो कुछ शाकाहारी भोजन में इनका सेवन नहीं किया जाता। आइए जानते हैं शाकाहार के अलग-अलग प्रकारों के बारे में:-

    1. लैक्टो शाकाहार

    इस तरह के शाकाहारी भोजन में दूध को सम्मिलित किया जाता है। लेकिन इसमें अंडे सम्मिलित नहीं है।

    2. ओवो शाकाहार

    इस तरह के शाकाहारी भोजन में सिर्फ अंडों को शामिल किया जाता है। लेकिन इसमें दूध सम्मिलित नहीं होते।

    3. ओवो-लैक्टो शाकाहार

    इसमें कई तरह के प्राणी उत्पाद जैसे अंडे, दूध, शहद को सम्मिलित किया जाता है।

    4. रौ वेगानिज्म

    इसमें ताजा फलों-सब्जियों, बादाम, बीज को सम्मिलित किया जाता है।

    5. वेगानिज्म

    यह प्राणी उत्पादों जैसे दूध, अंडे व शहद आदि उत्पादों को वर्जित करता है।

    6. सु शाकाहार

    इस तरह के खाद्य पदार्थ मुख्यतः बौद्ध धर्म द्वारा अपनाए जाने वाले खाद्य पदार्थ से काफी मिलते-जुलते हैं। इसमें प्राणी उत्पादों को शामिल नहीं किया जाता। इसके अलावा इसमें कुछ सब्जियों जैसे कि प्याज, लहसुन को भी आहार में सम्मिलित नहीं किया जाता।

    7. मैक्रोबायोटिक

    इस तरह के आहार में साबुत अनाज और फलियों को शामिल किया जाता है।

    8. फ्रूटेरियनिज्म

    इस तरह के आहार में पेड़-पौधों को बिना नुकसान पहुंचाए उनसे फल, बादाम इकट्ठा किए जाते हैं।

    9. पोलो शाकाहारी

    इस तरह के शाकाहारी व्यक्ति मछली, मांस, अंडे तथा डेयरी उत्पाद नहीं खाते लेकिन वे मुर्गा खाते हैं।

    10. पेस्को पोलो शाकाहारी

    व्यक्ति जो चिकन और मछली खाता है, लेकिन लाल मांस नहीं खाता तो वह पेस्को पोलो शाकाहारी कहलाता है।

    11. पेसेटेरियन

    इस तरह के शाकाहार में व्यक्ति मांस का सेवन नहीं करते लेकिन वे मछली का सेवन करते हैं। पेसेटेरियन शब्द 1990 के दशक के आरंभ में प्रचलित हुआ। यह शब्द इतावली भाषा के ‘पेसे’ और ‘शाकाहारी’ शब्द के संयोजन से बना है।

    12. फलाहारी

    फलाहारी उस व्यक्ति को कहा जाता है जो कि केवल फल और सब्जियों का सेवन करता है। इस तरह के खाद्य पदार्थों को पौधों से प्राप्त किया जाता है तथा इसमें पौधों को किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचाया जाता।

    13. वेगन

    इस तरह के शाकाहार में किसी भी मांस, मछली, समुद्री भोजन, अंडे, डेयरी उत्पाद का सेवन नहीं किया जाता है। इसके अलावा इसमें जिलेटिन, शहद, रेनेट जैसी चीजों को भी नहीं खाया जाता। इस तरह के शाकाहारी व्यक्ति पूरी तरह से प्राणी जनित उत्पाद जैसे कि चमड़े, ऊन, रेशम का प्रयोग नहीं करते, ना ही उनसे बने वस्त्र पहनते है।

    शाकाहारी भोजन करने के क्या लाभ है?

    कनाडा के आहारविद और अमेरिकन डाइटिंग एसोसिएशन के मुताबिक जीवन में योजनाबद्ध रूप से शाकाहारी भोजन करने के कई लाभ होते हैं। इसके अलावा शाकाहारी भोजन आपको कई बीमारियों की रोकथाम करने और उनका जल्द इलाज करने में मदद करते हैं।

        • शाकाहारी खाने में संतृप्त वसा, कोलेस्ट्रॉल तथा प्राणी प्रोटीन जैसे हानिकारक चीज़े कम मात्रा में होती है।

        • इसके अलावा साल 2010 में सेवेंथ डे एड्वेंटिस्ट द्वारा एक अध्ययन किया गया जिसमें शाकाहारी और मांसाहारी दो ग्रुप लिए गए और उनके बीच तुलना की गई तो यह परिणाम निकल के सामने आया है कि शाकाहारी लोगों में मांसाहारी लोगों के मुकाबले अवसाद कम होता है।

        • मांसाहारी लोगों के मुकाबले शाकाहारी लोगों में हृदय सम्बंधित बीमारियां काफी कम होती है। इसके अलावा मांसाहारी लोगों को अपने खाने से काफी मात्रा में कोलेस्ट्रॉल और लाइपो प्रोटीन, कोलेस्ट्रॉल हासिल होता है। लेकिन यह कोलेस्ट्रॉल शाकाहारी लोगों में कम पाई जाती है।

        • शाकाहारी लोग शाक-सब्जियों से कॉन्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट ज्यादा मात्रा में ग्रहण करते हैं। यही वजह है कि उन्हें हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियां ज्यादा नहीं होती। मांसाहारी लोगों में हाई ब्लड प्रेशर ज्यादा देखा जाता है।

        • शाक-सब्जियों से शाकाहारी लोगों को रेशा युक्त फल और सब्जियां मिलती है। इनके सेवन से उन्हें फेफड़ों व आंत संबंधित कैंसर मांसाहारी लोगों के मुकाबले कम होती है।

        • कई शोधों में यह बात सामने आई है कि शाकाहारी भोजन करने वाले लोगों में ब्रेस्ट कैंसर की संभावना कम होती है।

        • शाकाहारी भोजन करने से हमारे गुर्दे स्वस्थ रहते हैं तथा यह अन्य बीमारियों की चपेट में नहीं आते।

        • हमारे शरीर को उचित मात्रा में अमीनो एसिड कि आवश्यकता होती है। यह आवश्यकता वनस्पति आधारित भोजन का सेवन करने से पूरी होती है।


    इस तरह कह सकते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए शाकाहारी भोजन करना जरूरी है। अन्य देशों के मुकाबले हमारे देश में सबसे ज्यादा शाकाहारी मौजूद है। आंकड़ों के मुताबिक देश में शाकाहारी लोगों की संख्या 399 मिलियन है। दुनिया भर में मौजूद डॉक्टरों ने यह साबित भी किया है कि शाकाहारी भोजन अच्छे स्वास्थ्य के लिए सर्वश्रेष्ठ विकल्प है क्योंकि सब्जी, दाल, दूध, फल-फूल से मिलकर बने संतुलित भोजन किसी भी तरह के जहरीले तत्व पैदा नहीं करते।

    इसके अलावा यह कहा जाता है कि मांसाहारी भोजन के लिए यदि किसी जानवर को मारा जाता है तो वह जानवर उस दौरान भयभीत होता है, तब उसमें भय से जहरीले तत्व उसके शरीर में फैल जाते हैं। और जब इसी मांस का सेवन किया जाता है तो यह जहरीले तत्व मनुष्य के शरीर में पहुंच जाते हैं। हमारा शरीर इन सभी जहरीले तत्वों को निकालने में समर्थ नहीं होता जिस वजह से हम दिल-गुर्दे की बीमारियों, उच्च रक्तचाप जैसी कई बीमारियों से जल्दी ग्रसित हो जाते हैं इसीलिए स्वास्थ्य की दृष्टि से जरूरी है कि हम पूर्णतः शाकाहारी ही रहें।

    एक टिप्पणी भेजें

    0 टिप्पणियाँ